Author: राजीव मणि

0

आजादी | कविता

सुनता हूं नारे रह-रह कर ‘हर कोई मांगे आजादी’ लेकिन क्या आजादी मांगने वाले भूल जाते हैं यह कि कुरबानी...